New Update

लॉकडाउन में अपने ही घर में बेगाने हुए पुलिस captain

लॉकडाउन की सफलता में पुलिस अधीक्षक शिवहरी मीणा ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

पुलिस कर्मियों ने जरूरतमंदों को तमाम स्थलों पर न केवल भोजन मुहैया कराया बल्कि आपात स्थिति में दवाई व अन्य जरूरी सुविधाएं भी पहुंचाई। पुलिस अधीक्षक की कड़ी मेहनत का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि करीब डेढ़ महीने के लॉकडाउन में वे अपने ही घर में बेगाने बन गए हैं। वे घर में अलग कमरे में रहते हैं, जहां परिवार वालों का प्रवेश निषेध है।
माता-पिता व परिवार के अन्य सदस्यों को वे दूर से ही देख पाते हैं। वह भी कभी-कभार।

वे सुबह छह बजे उठते हैं और रात एक बजे के बाद ही सोते हैं। उनकी मुस्तैदी का नतीजा है कि जिले में पुलिस के एक भी डंडा पटके बगैर लॉकडाउन सफल रहा।

लॉकडाउन की सफलता के लिए एसपी ने जिले को पांच जोन और 16 सेक्टर में बांटा है। प्रत्येक जोन और सेक्टर की जिम्मेदारी अधिकरियों को सौंपी गई और उन्हें किसी भी गलती के लिए जवाबदेह भी बनाया गया है।

दस बैरियर ऐसे हैं, जिन पर 24 घंटे चेकिंग होती है।
यहां से गुजरने वालों की सघन जांच की जाती है। साथ ही उनका नाम, पता और मोबाइल नंबर भी रजिस्टर में अंकित किया जाता है। एसपी ने प्रत्येक थानों में साफ-सफाई व ब्रीफिंग के लिए एक सब इंस्पेक्टर व दो सिपाहियों की तैनाती की है।

इनकी जिम्मेदारी है कि कोरोना वायरस से बचाव के बारे में पब्लिक को प्रेरित करें और थानों पर पहुंचने वाले लोगों को उनके मोबाइल फोन में आरोग्य सेतु अपलोड करवाएं।
एसपी पुलिस कर्मियों की सुरक्षा को लेकर भी बेहद संजीदा हैं। उन्होंने पुलिस लाइंस के एक गेट को छोड़कर सभी को बंद करा दिया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *